बिलाल्पादक और भगवन गौतम बुद्ध की कहानी - Bilalpaadak Mahatama Buddha

बिलाल्पादक और भगवन गौतम बुद्ध की कहानी - Bilalpaadak Mahatama Buddha

Buddha quotes in Hindi - Top Inspirational & Motivational Quotes by Gautama Buddha

भगवान बुद्ध के जीवनकाल की 3 महत्वपूर्ण घटनाएं ।

बिलाल्पादक और भगवन गौतम बुद्ध की कहानी - Bilalpaadak Mahatama Buddha


 एक नगर में बिलाल्पादक नाम का एक धनी व्यक्ति रहता था। वह बहुत स्वार्थी था और सद्गुणों से दूर रहता था। उसका एक पड़ोसी गरीब लेकिन परोपकारी था। एक बार एक पड़ोसी ने भगवान बुद्ध और उनके शिष्यों को अपने घर भोजन के लिए आमंत्रित किया। पड़ोसी ने भी सोचा कि इस महान अवसर पर अधिक से अधिक लोगों को भोजन के लिए आमंत्रित किया जाए। ऐसे संकल्प के साथ, पड़ोसी ने बड़े भोज की तैयारी के लिए शहर के सभी लोगों से दान की अपेक्षा की और उन्हें आमंत्रित किया। पड़ोसी ने भी बिलाल्पादक को आमंत्रित किया।

दावत से एक या दो दिन पहले, पड़ोसी दान इकट्ठा करने के लिए इधर-उधर जाते थे। जितना हो सकता था, सबने दान कर दिया। जब बिलाल्पादक ने पड़ोसी को घर-घर जाकर भिक्षा माँगते देखा, तो उसके मन में सोचा “इस पड़ोसी से खुद का पेट पालते तो बनता नहीं है फिर भी इसने इतने बड़े भिक्षु संघ और नागरिकों को भोजन के लिए आमंत्रित कर लिया! अब इसे घर-घर जाकर भिक्षा मांगनी पड रही है। यह मेरे घर भी भिक्षा मांगने आएगा।”

जब पड़ोसी बिलाल्पादक के द्वार पर भिक्षा मांगने आया तो बिलाल्पादक ने उसे कुछ नमक, शहद और घी दिया। पड़ोसी ने बिलाल्पादक के उपहार को सहर्ष स्वीकार कर लिया लेकिन इसे अन्य लोगों के दान के साथ नहीं मिलाया बल्कि इसे अलग रखा। बिलाल्पादक यह देखकर बहुत हैरान हुए कि उनकी दान को दूसरों से अलग क्यों रखा गया। उसे लगा कि उसके पड़ोसी ने सभी लोगों के सामने ऐसा किया है ताकि उन्हें एहसास हो सके कि इतने अमीर आदमी का उपहार कितना महत्वहीन है।

गौतम बुद्ध ने क्या बिलाल्पादक से क्या कहा

बिलाल्पादक ने अपने नौकर को पड़ोसी के घर जाकर जानकारी लेने को कहा। नौकर ने वापस आकर बिलाल्पादक को बताया कि पड़ोसी ने आपके की दान सामग्री को थोड़ा-थोड़ा करके चावल, सब्जी, खीर आदि में मिला दिया । इस ज्ञान ने बिलाल्पादक की जिज्ञासा को कम नहीं किया और अपने पड़ोसी के इरादों पर संदेह किया। दावत के दिन, उसने सुबह अपने कपड़ों में छिपा हुआ एक खंजर उठाया, ताकि अगर उसका पड़ोसी उस पर शर्मिंदा हो, तो वह उसे मार डाले।

जब वह वहां गया, तो अपने पड़ोसी भगवान बुद्ध को यह कहते हुए सुना - "भगवान, मैंने इस दावत के लिए जो भी पैसा इकट्ठा किया है, वह नगर के सभी निवासियों से मुझे दान मिला है। सभी ने पूरी निष्ठा और उदारता से दान किया है, इसलिए सभी के दान का मूल्य समान है।

पड़ोसी की इन बातों को सुनकर बिलाल्पादक ने अपने विचारों की तुच्छता ​​को देखा और अपने द्वारा की गई गलतियों के लिए सबके सामने पड़ोसी से माफी मांगी।
बिलाल्पादक के पश्चाताप के शब्दों को सुनकर, बुद्ध ने सभी उपस्थित लोगों से कहा, "आपके द्वारा किए गए अच्छे कामों का तिरस्कार न करें, चाहे कितना भी छोटा क्यों न हो। छोटे अच्छे कर्म एक साथ आते हैं और भविष्य में महान बन जाते हैं।"

Post a Comment (0)
Previous Post Next Post